Sunday, August 23, 2009

उल्लुओं से क्षमा याचना सहित...

एक पुरानी कहावत है कि 'जिस बाग़ में एक भी उल्लू डेरा डाल ले वो बाग़ सूख जाता है'। एक शेर अर्ज़ है -
बर्बाद गुलिस्ताँ करने को बस एक ही उल्लू काफ़ी है,
हर शाख़ पे उल्लू बैठा है, अंजाम-ए-गुलिस्ताँ क्या होगा.

Wednesday, August 19, 2009

डॉ कलाम और शाहरुख़ खान

हालाँकि ये मुद्दा पुराना हो चुका है फिर भी....

कह रहा है दरिया से समंदर का सुकूत,

जिसका जितना ज़र्फ़ है उतना वो ख़ामोश है।

( सुकूत - ख़ामोशी, ज़र्फ़ - सामर्थ्य, दिमाग़, क़ाबिलियत )

- इक़बाल

Friday, August 14, 2009

बाँके बिहारी

ऐ बाँके बिहारी, आओ, लोग आपस में लड़ कर मर रहे हैं. उनमे से बहुत से हैं जो तुम में आस्था रखते हैं, और जिन्हें कोई भी आस्था बचा नहीं पा रही. बहुत से जो बचा लिए जा रहे हैं, उनसे तुम्हारा कोई लेना देना नहीं, न बचने वालों का, न बचाने वालों का. ऐसा क्यों हैं बाँके बिहारी? अपने नाम पे लड़ते, कटते और मरते हुओं के बीच पैदा होना और अपना जन्मदिन मनाना कैसा लग रहा है?..चलो हम भी आस्थावानों की तरह रस्म अदायगी कर ही दें...Happy Birthday बाँके बिहारी.

Tuesday, August 11, 2009


सलाख़ों को हम गुलबदन देखते हैं,

नवा-ए-बलाबिल सुख़न देखते हैं,

ख़यालात-ए-पैहम की ये ख़ुशख़रामी?

कफस में फ़ज़ा-ए-चमन देखते हैं.

- हर्ष

( गुलबदन - फूलों जैसी नर्म, बलाबिल - बुलबुल का बहुवचन, नवा-ए-बलाबिल - पिंजरे में बंद पक्षियों का आर्त्तनाद, सुख़न - काव्य, पैहम - निरंतरता, ख़ुशख़रामी - सुंदर चाल, ख़यालात-ए-पैहम की ये ख़ुशख़रामी - निरंतर सुंदर गति से आती हुई विचार श्रृंखला का ये असर , कफस - पिंजरा, फ़ज़ा-ए-चमन - उपवन जैसा वातावरण. )

Tuesday, July 21, 2009

धर्म और स्वामी विवेकानंद

'The most contradictory, irrational nonsense that has been preached in the world is simply the instinctive jargon of confused lunatic brains trying to pass for the language of inspiration '
- Swami Vivekanand

'जिस सर्वाधिक विरोधाभासी, तर्कहीन बकवास का दुनिया भर में प्रचार किया गया है, वो केवल एक भ्रमित पागल दिमाग़ का स्वाभाविक शब्दजाल है जो उसे प्रेरणा की भाषा में पारित करना चाहता है'
- स्वामी विवेकानंद

Thursday, July 16, 2009

एकाँत - मेरी कुछ तसवीरें

ये ना सुबह-ए-बहाराँ है, ना है शाम-ए-फिर्दौस

(सुबह-ए-बहाराँ - वसंत प्रभात, शाम-ए-फिर्दौस - स्वर्ग संध्या)

Saturday, July 4, 2009

आए कुछ अब्र...

आए कुछ अब्र, कुछ शराब आए,
उसके बाद आए जो अज़ाब आए.
-फैज़ अहमद 'फैज़'
(अब्र - बादल, अज़ाब - मुसीबत)

Saturday, June 27, 2009

बारिश और तुम

आवारा बादलों की कादंबिनी का,
मेरे चेहरे को सहलाती,
नर्म फुहारों की नमी का,
एक नाम ढूँढ निकाला,

- हर्ष

Friday, June 26, 2009

एक खुला ख़त - I love Sarkozy

Hi My Contemporaries,

I love Sarkozy. Last time when I had heard of a similar stand taken by any Head of the State was Akbar with his 'Din-e-Ilahi'. That was in 16th century India, and we were too young then to meet Akbar and congratulate him. Joseph Stalin, with all his other political shortcomings, again succeded in doing a good job of eliminating orthodox religious practices in the 20th century Russia. We again missed the we were too young even then. Now that we are rich with our years, let's congratulate Sarkozy. Don't you think so?

Advent of Islam unified the nomadic tribal social fabric of Arabia where political constitution of that particular geophical region could not have possibly been separated from concocted and subsequently inflicted fear called religion. But that was in 7th century AD. This is 21st century AD. We still continue to get indoctrinated and inflicted with that obsolete fear. These guilt inflicting practices in the name of religion still exist. Now let us not mix up issues. Churches, Temples, Mosques or Synogogues etc. etc. can not govern matters of a democratic State. If religion has to exist, it should not infringe upon the individual rights. Else it has to go...and it WILL go, because human survival instincts will resist impositions. Natural genetic evolution process is thankfully too selfish, hence it will find its way to continue to retain its ability to survive, and it is too strong to succumb to any man made impositions.


Wednesday, June 24, 2009

इतनी बहस बुर्क़े पर

Sarkozy: In France we cannot accept women be prisoners behind a screen, cut off from all social life...The burka is not a religious sign. It is a sign of subservience, a sign of debasement...It will not be welcome on the territory of the French Republic.

मैं फिर अपना शेर दोहराता हूँ -

न जाने कुफ्र-ओ-ईमां की कहाँ जाकर हदें छूटें,
चलो ढूँढें नया कोई अमीर-ए-कारवाँ अपना।

(कुफ्र-ओ-इमाँ - आस्तिकता और नास्तिकता , हदें छूटें - सीमाओं से बाहर आयें, अमीर-ए-कारवाँ - नेतृत्व करने वाला, कारवाँ की अगुवाई करने वाला)

Facebook पर जनाब तारेक फतह के पेज पर इस बहस को आपके सामने रख रहा हूँ

Ali Butt at 9:31pm June 23
because his wife likes to take off her clothes in public without any hesitation। why would he like burka.

Tarek Fatah at 9:36pm June 23

Ali Butt,I was wondering how long it will take for a someone to take the conversation into the gutter. You did not dissapoint me.Why do you have to talk someone's wife? Couldn;t you make your case why you want the burka instead of fantasizing about Mrs. Sarkozy' nudity?

Hayat Jomaa at 9:55pm June 23
you know this argument could be both ways.....i find the burka demeaning to women, i think they are literally in a prison and they seem to convince their minds that it is what they want and overtime perhaps they become so convinced it is the right way to go that it would be counterproductive for us to to antagonize them. on the one hand if these ...women want to wear the burka, let them no one else is suffering their prison but them. but i do agree that when they enter a different civilization where the laws are different, they have to respect these laws. after all islam dictates that muslims anywhere in the world must respect the laws of the country hosting them. so these women cannot wear the burka in france and expect a welcome so if they choose to wear it, they should go to places that are more tolerant of these eccentricities

Najat Kessler at 10:21pm June 23

Hayat,this kind of argument just sends me to the roof! When and why educated people in the free world get confused about basic common sense? Let me explain: when a woman wears "whatever the hell that ugly black outfit is called" she does not do it, because so to speak she "chooses" to wear the damn thing. She is beaten into submission from a ... tender age meaning when she is a child, a state of complete availability and vulnerably. Now, keep in mind that she is also taught that is what the Almithy God wants her to do. She is also made to believe that being controlled abused will make the Almaighty God happy with her. So how on the earth can we expect of such women to miraculously reject their ugly outfits once they have immigrated? Besides political Islam wants to make this kind of abuse a legal practice under the banner of religion. In a decent society a child should not be abused in anyway, shape or form! And this includes religious abuse be it Catholic or Islamic.Kind Regards,

Julie McGregor at 10:32pm June 23

The Taliban enforced the Burqa, and it is not mentioned Quran. The Taliban were created by Islamic extremist's who took orphaned Afghan boys from refugee camps during the Soviet invasion and raised them in Pakistani Mosques funded unwittingly by the American government. Money meant to help the refugees. I have ask, why would the Pakistan ... Read More government want to raise these boys to hate women? And did Pakistan have an ulterior motive to take over Afghanistan? It is all born out of fear. Woman in southern Afghanistan today wear the Burqa for safety reasons, if not they would be punished by the Taliban or husbands who believe it is part of their religion. Otherwise, unless you want to hide your face there is no reason to wear a Burqa.

Jussi K. Niemelä at 10:38pm June 23

Burqa is the ultimate symbol of female oppression. It is a shame for the whole humanity to see these horrible pieces of clothing anywhere.

Gregory Da Silva at 10:58pm June 23

Najat, definitely, most people are indoctrinated and coerced as youths into practicing a religion. However, not all Muslim women that are wearing the cloth are being physically forced into the practice. Actually, many Western converts to Islam are choosing it. Children are a different matter. In the Muslim world, most children don't even wear the hijab or niqab.

Hemin Sabir at 11:13pm June 23

NO surprise Tarek these people usually resort to weak ad hominem arguments instead of tackling the main issue. If anything it attests to their lack of knowledge and confidence..

Omar Qadir at 11:23pm June 23

Julie, could we please stop defending Quran for once? instead standing for the countless victims who fall everyday?I don't know how familiar you are to Quran, but actually Burqa is a milder form of what Quran wants. Quran ordres women to stay at home and when a stranger is at their home they should talk to the stranger when they are behind a curtain.I hate talking about this, but can't stand people whose only concern is to defend their Quran and blaming innocent victims of misunderstanding it.

Hayat Jomaa at 11:28pm June 23

ok let me say this again.......i dont care why the hell they wear it, i dont even care if they believe in it or were beaten into it, it is not your place to tell anyone that they need to be liberated (PERIOD). MY ARGUMENT has nothing to do with their choice or lack their off, i couldnt give a damn if they choose to walk naked on the street or to ...wear a tent. i simply said that if you live in a country where the laws are contrary to your beliefs you have to respect these laws, islam ordains that you do so. if you so choose to continue with your beliefs which are antagonistic to the law, you should find a nation that is more acceptable to your eccentricities.....i hope i made myself clear this time.

Sardar Ahmed Shah Jan at 12:36am June 24

I share Hayat Jumaa's views to the last letter. Spoken like a literate muslim.

Najat Kessler at 1:28am June 24

Hayat: I do care. We should never turn a blind eye to any sort of abuse. Be it religious or other, because my dear Hayat, it is a necessity not a luxury. If you don't care, it will catch up with YOU no matter where you are (PERIOD). It is no a question of wanting to liberate someone it is a necessity for peaceful human cohabitation in our world ... today! Besides, everyone of these women was once a child. Every child has the right to be a child and not be turned into a religious propaganda tool.Besides, once in human history it was the law in many countries if you were black (or a woman) you were to be a propriety of someone else! It took courageous people from all walks of life to stand up and say NO in order to end slavery. That is how you get to enjoy your freedom today!It behove us to care about others for our own good and that of all children and humans on our planet.

Julie McGregor at 1:56am June 24

Omar, I was not defending the Quran. My point was that women should not be made to wear a Burqa for religious reasons or any reason at all.

Ajita Kamal at 2:30am June 24

I agree with Najat and others here who are for government intervention to end this oppression of women. Oppression can be through force or indoctrination. Freedom of expression ends where one's freedoms impinge on the freedoms of others, including on their freedoms not to be indoctrinated and oppressed. In civil society we make such judgments all the time.

Hayat Jomaa at 3:58am June 24

That is nice, you guys can intervene all you want but it is not your place to tell these women who are headstrong on wearing their traditional clothes not to and they need to be liberated. try telling them their beliefs are wrong and see how well they react. dont worry najat it is not going to catch up to YOU. point of the matter is societies are... ever changing and change has to come from within the society not outside it. if you want to intervene you should not put a gun to someones head and tell them you better take it off. then you would sound like Bush who was trying to bring democracy by force it is counterproductive (PERIOD).

Ajita Kamal at 4:20am June 24

The Bush analogy is a terrible analogy and does not apply here. You are picking something that is considered a horrendous violation of human rights by general consensus. No one is talking about starting a killing spree of all those wearing burkas. A better analogy is slavery. Many Southern plantation owners and even some Northern yankees argued ... that imposing a ban on slavery would be counterproductive and would only increase slavery. Government intervention was the answer then. It was the answer when Blacks were given he right to vote and women were given equal rights. After progressive ideas have been implemented by human rights ideals it takes years for it to become general consensus. Another great analogy is the caste system in Hindu society, where "upper caste" people argue that it is freedom of expression, when in reality it is oppression through indoctrination. Change comes from within and from without- but it always comes through people who care.

Tarek Fatah at 4:36am June 24

Hayat,After reading what you have written, you come across as someone who is apologising for one of the Arab world's worst contributions to the world: the encasement of women in a black shroud.I hear this defence or apology of the cursed shroud for too many women who themselves would never wear it, but then defend it in the name of choice.... This vulgarity should be labelled for what it is--a curse on women. The poltically correct spin to defend the head-to-toe black shroud will never hide the fact this article of clothing has no purpose other than to enslave women.

Saqib Tahir at 6:20am June 24

I completely support Pres. Sarkozi's views. Burqa should be banned in all civilized world. If Turkey, an Islamic country, can ban Burka 70 years ago why cannot a modern democracy do so. Face gives identity to a person. Hiding it behind veil is equal to snatching a human’s identity. Burka is a public safety issue as well. More and more fujitives, terrorists and criminals are using Burqa to hide their identity in public or to conduct crimes. Few years back a jeweller in Brampton, Canada was robbed in broad daylight by Burka wearing robbers. Interestingly both the victim and some members of robbery gang belonged to orthodox Ahmadiyya sect that strongly believe in keeping women in Burka.


Despite being born and raised in a family where all women used to wear Burka, today I don’t feel comfortable in the presence of a Burka wearing person in public transit or shopping mall.

Amber Tahir at 6:28am June 24

I agree with Tarek should be modestly dressed up, applied for both genders, no need to hide identities .Women are two units of a pair. The Quran says: "O mankind! surely We have created you of a male and a female, and made you tribes and families that you may know each other; surely the most honorable of you with Allah is the one ... among you most careful (of his duty)Meaning that they complement each other in numerous ways both in mental, physical and emotional qualities. Islam looks at the different responsibilities of each gender. These responsibilities are defined as being the traditional family structure, where women are responsible for the household and men are responsible for earning the livelihood for the family. However women in Islam are seen as independent and self reliant individuals, therefore challenging the traditional view of a family structure.

Mark Warner at 9:22am June 24

Obama had it right in Cairo. Sarko got it wrong in Versailles. Compulsion is wrong whether from the left or the right or from the secular or the pious.

Tarek Fatah at 1:44pm June 24

Mark,If this is a matter of choice, then please enlighten me why, not a single Muslim man has ever chosen to wear the burka?I know for a fact that many bank robberies have been committed b y men wearing burkas and many terrorists have escaped law enforcement agencies wearing a burka, but other than that, why are no Muslim men opting to choose this black tent of shame as their regular attire?

Mark Warner at 3:05pm June 24

I am not a fan of the burka. I am uncomfortable when I see it. But honestly, all dress is cultural. When I lived in NY, I recall being horrified watching two young Hasidic boys playing outside on a sweltering hot day in their "religious" outfits. I also feel uncomfortable when I see scantily-clad over-sexualized pre-teens shopping with their ... parents in the grocery. The point is not to impose dress codes. It is to remove what ever elements of compulsion exist. Finally, Tarek, having lived for substantial periods in Brussels and Paris, I suffer no doubt that the rising anti-Muslim sentiment across Europe is just a code for legitimate racism. Sarko does not limit his attacks to the burka or those who wear them. He also is not a fan of the North African "racailles" who don't wear the burka.

Tarek Fatah at 3:31pm June 24

Mark,When in human history has a people covered their faces as an act of religosity?If you would not tolerate this nonsense on your wife or daughter, why do you want give it legitmacy and validation when it comes to my daughter or wife?... Read MoreAnd BTW, were those Jewish kids playing outside with their faces covered?You are missing the point as are too many decent men and women in the West whose goodwill and good faith is being milked by the very people who consider your 'uncovered wife, sister and daughter with a language that I better not use on FB.Don't get used by the forces that would rather see you dead than alive, unless of course you can join them and encase 'your' women in the black tent of shame.

Hayat Jomaa at 9:40pm June 24

i think perhaps you should reread what i wrote and maybe you would not misinterpret my logical approach to this situation as an apologetic one. i make no apologies for arabs or muslims. each individual is free to do what he/she wants to do. your approach to the situation that it must be changed, can only come through force and that is ... counterproductive to your agenda of liberating the enslaved women as you call them. therefore unless you have a practical solution besides forcing them to do the opposite of what they have been brainwashed to do then i suggest you put it forth. but if you are insinuating that these women should be liberated by forcing them into a way of life they strongly oppose then i would have to say you are not being practical. furthermore i have stated that if these women choose to continue to wear their burkhas they should not do so in a land that opposes this practice and must find a land that is welcoming to them

Mounira Gad at 9:43pm June 24

the Burka conceals identity, and so can work against society. Just like we do not allow people to walk the streets naked, we should not allow the burka.

Hayat Jomaa at 9:44pm June 24

freedom of choice should not be interpreted as a curse....perhaps this is beyond you to understand, but not everyone in this world have a homogenous approach to all situations and way of life. you dont have to believe in their belief, but you have to respect and not force your opinion on them. but again you should read once more what i wrote and ... please do not make assumptions as to my state of thought. my beliefs on this issue are irrelevant to this discussion. i look at all angles and make an analysis based on practicalities while continuing to take consideration of all cultures and religion.

Thursday, June 18, 2009


सरे शाम ख़ुर्शीद ढलने का आलम,
वो चिड़ियों कि जाती चहक धीमे धीमे।
- हर्ष

Wednesday, May 27, 2009

मेघदूत का झांकता सूरज

किसी काम के सिलसिले में महाबलेश्वर गया था। वहाँ पहुँच कर काम धाम तो भूल गया अपने कमरे से इस प्राकृतिक छटा का आनंद लेने लग गया... अपनी ली हुई तस्वीरें आप सभी से बाँटना चाहता हूँ । अनायास ही 'मेघदूत' के यक्ष की पीड़ा हूक बन कर उठती है... यक्ष मेघ से कहता है कि हे मेघ, देखो यहाँ सामने वाल्मिक के सिरों से इन्द्रधनुष निकल रहा है जो कई रत्नों के मेल से निर्मित कान्तिपुन्ज की तरह है। यहाँ इन्द्रधनुष बाँबी से निकलता है और अपनी बाँकी उठान से अन्तरिक्ष को घेर लेता है।

आपकी प्रतिक्रया की प्रतीक्षा रहेगी।

Monday, May 25, 2009

मेरी शंकाएँ

हममें से बहुतों के धर्म के स्रोत और उसकी उत्पत्ति के प्रति अपने अपने सिद्धांत और मत हैं। ये मत कहाँ से उत्पन्न हुए और मानव संस्कृति ने इन्हें क्यों ग्रहण कर लिया? कुछ तो है जो हमें इन धार्मिक धारणाओं से मिलता है, जैसे, ढाढ़स, आश्वासन, तसल्ली, धैर्य, दिलासा, आदि आदि। ये मान्यताएं अलग अलग गुटों में निजी भाईचारे और मैत्री को भी प्रखरता से दर्शाती हैं। अपने अस्तित्व में आने के कारण को जानने की उत्सुकता को भी ये धारणाएं संतुष्ट और शांत करती हैं। फिर भी मेरी कुछ पूर्ववर्ती शंकाएँ हैं... ऐसा क्यों हैं की आज तक कोई धार्मिक मान्यता विज्ञान की ओर देख कर इस निष्कर्ष पर नहीं पहुँची कि ब्रह्माण्ड, जैसा हमारे ईश्वर्दूतों, पैग़मबरों ने सोचा था, वैज्ञानिक आधार पर उससे कहीं ज़्यादा विशाल, भव्य, गूढ़ और मनोहर है। पर नहीं.... हमारे इश्वर, अल्लाह जैसे थे वैसे ही रहेंगे...! और हम चाहते हैं कि वो वैसे ही रहें। ... ब्रह्माण्ड के कोनों में छिपे वैभव को उजागर करके उसका जितना सम्मान आधुनिक विज्ञान कर सकता है, हमारी पारंपरिक धार्मिक आस्थाओं की बंद आँखें हमें वहां पहुँचने तक नहीं देतीं ।

Saturday, May 23, 2009

टिप्पणियों पर टिप्पणी

chhammakchhallo kahis Blog की एक प्रविष्टि 'हमारे देवी-देवताओं के जननेंद्रिय नहीं होते' पर की गयी टिप्पणियों पर एक टिपण्णी. मेरे प्रश्न श्री रजनीश परिहार और डॉ अनुराग जी की टिप्पणी से उपजे हैं। मुझे सच्चिदानंद जी के मौलिक काव्य ( जिस पर विभा जी ने बेहद सार्थक लेख लिखा है) के गुणों और अवगुणों से फि़लहाल कोई सरोकार नहीं। मैं पूछना चाहता हूँ कि.... क्या एक शिल्पकार के लिए अपनी कृति के प्रत्येक अंग एक समान नहीं होते?... क्या किसी शिल्प की जननेंद्रियाँ गढ़ते वक़्त उसकी मानसिकता बदल जाती है?... क्या वोह भी सृजन करते समय हम आलोचकों की तरह मानसिक रूप से सामाजिक अनुबंधनों से जकड़ा हुआ होता है?... क्या उसे भी अपनी कलात्मक व्याख्या को धार्मिक संकीर्णता की परिधि में सीमाबद्ध रखना चाहिए?... इन प्रश्नों को नकार कर हम विद्यापति के गीतों को जला क्यों नहीं देते?

Wednesday, May 20, 2009

बेचारा अवसरवादी लालू

Rashtriya Janata Dal (RJD) chief and Railway Minister Lalu Prasad Yadav at a function to mark the 125th birth anniversary of India’s first President Dr. Rajendra Prasad in Patna on Sunday used the occasion to attract the Kayastha community in the presence of some eminent Kayasthas of Bihar.
Ram Kripal Yadav, the RJD MP, also praised the Kayastha community for their support to Lalu Prasad Yadav saying even Jai Prakash Narain, the architect of the ’70s revolt against the Emergency, trusted him to bring drastic change in the nation.

Lalu said “With your mighty pen and my lathi, we can overcome many hurdles in the state and bring prosperity and peace for all.” Yadav, who once coined the term ‘Bhura Baal’ to express his dislike for Bhumihar, Rajput, Brahman, and Lala (the Kayasthas) to solidify his voting base with Muslims and Yadavs otherwise known as the famous MY equation.

Thursday, May 14, 2009

क्या है किसी अबोध बच्चे का धर्म?

कहीं किसी वक़्त बात करते करते मेरे मुंह से किसी एक बच्चे के लिए निकल पड़ा कि 'फलां फलां का illegitimate child (अवैध संतान) है'। मेरे बड़े भाई ने टोका 'बच्चा illegitimate (अवैध) है या उसके माँ बाप? ख़बरदार जो कभी किसी बच्चे को illegitimate (अवैध) कहा।' बात घर कर गयी। किसी अबोध को क्या मालूम अपने अस्तित्व में आने का कारण और परिस्थितियाँ.... फिर भी सामाजिक प्रथानुसार उससे सारी उम्र जताया जाय कि वो अवैध है, ये कहाँ तक उचित है....? इसी सन्दर्भ में अब आते हैं जाती प्रथा पर। आये दिन जो सुनने में आता है कि 'फलां बच्चा मुसलमान है' या 'फलां बच्चा हिन्दू या इसाई है'। क्या उस बच्चे को ये मालूम है कि वो किस धर्म का है? उसके माँ बाप हिन्दू, मुसलमान, इसाई या किसी भी धर्म के अनुयायी हो सकते हैं, पर क्या किसी अबोध मन पर ये बोझ डालना तर्कसंगत है? कोई भी बच्चा, किसी भी धर्म के मानने वाले माता पिता की संतान हो सकता है, पर विज्ञान हमें बताता है कि मान्यताएं आनुवंशिक (genetic) नहीं होतीं.

Thursday, March 19, 2009

साम्राज्यवाद और आज का भारत

साम्राज्यवाद की दलाल भारत सरकार बेशक़ लगातार ये दावा करती रही है कि वैश्विक महामंदी का असर अपने देश पर नहीं पड़ने दिया जायेगा, मगर भारत सरकार के ही श्रम मंत्रालय की रिपोर्ट के अनुसार मार्च 2009 तक क़रीब 15 लाख लोग सूचना प्रौद्योगिकी, निर्यात उद्योग तथा अन्य सेवाओं का अपना प्राप्त रोज़गार खो चुके होंगे. यही नहीं भारतीय उत्पादों की अमेरिका तथा यूरोप में माँग गिर जाने के कारण 5 लाख लोगों का रोज़गार और ध्वस्त होने वाला है. औसत विकास दर 9% से घाट कर 5% पर खिसकने की पूरी संभावना है. ये घटती विकास दर, बढ़ती बेरोज़गारी बताती है कि महामंदी की लपटों में भारत भी पूरी तरह झुलसने जा रहा है. 10 फ़रवरी 2009 को महाराष्ट्र के श्रममंत्रालय ने अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत कर राज्य सरकार को सूचित किया की इस वर्ष 15 लाख लोगों को अपनी नौकरियों से हाथ धोना पड़ा है. ऐसी स्थितियों में जहाँ जन असंतोष,दलाल सरकारों को बेनक़ाब कर हमेशा हमेशा के लिए उखाड़ फेंकने में काम आ सकता है, वहीं प्रतिक्रियावादी ताक़तें उन्हे उत्तर भारतीय, स्थानीय, आदि आदि में बाँट कर आपस में भिड़वाती हैं, जबकि असल समस्या साम्राज्यवादी भूमंडलीकरण, निजीकरण तथा उदारीकरण की वजह से है. अपनी रोज़मर्रा की आपाधापी से थोड़ा समय निकाल कर, हम अपना सामाजिक दायित्व निभाते हुए कुछ चिंतन करें।

'साम्राज्यवाद और आज का भारत' विषय पर एक चिंतन.
शिविर दिनांक - 21 मार्च 2009, सायं 5 बजे,
स्थान - YWCA, नवरंग सिनेमा के पास,अंधेरी पश्चिम,मुंबई।
मुख्या वक्ता - प्रॉफ़ेसर जगमोहन सिंह ( शहीद भगत सिंह के भान्जे)
संपर्क - +91 9871215875, +91 9819428425

Wednesday, January 14, 2009

तुम कौन हो? एक आज़ाद नज़्म

तुम कौन हो?

तुम कौन हो,
जो दबे पाँव आकर,
चुपके से,
मेरे कानों में कुछ कह जाती हो?
फिर मैं,
जैसे मौज-ए-आवारा कोई,
वुस्सअ'त-ए-दरिया की
संजीदः रवानी में बह जाती हो।

तुम कौन हो?

तुम कौन हो,
इसी ख़याल से,
सजता रहे आहंग-ए-नज़्म,
कटता रहे हस्ती का सफ़र।
मगर उफ़!
ये रोज़-ए-हस्ती के शोर-ओ-ग़ुल का असर!
आतिशपारे ख़ामोश,
क्या बुझी ज़िंदगी जी लें?
तक़ाज़ा-ए-बहार तो हो,
और ग़ुँचे लब सी लें?

इस अधूरी नज़्म के अंजाम के होने तक,
इस रोज़-ए-हस्ती के शाम के होने तक,
फ़सील-ए-जिस्म में क़ैद,
ख़ुद ही को थामना होगा,
ख़ुदा जाने,
तुमसे कब सामना होगा।

( मौज-ए-आवारा - लक्ष्य और दिशा रहित नदी की लहर, वुस्सअ'त-ए-दरिया - नदी का विस्तार, संजीदः रवानी - गंभीर और शांत बहाव, आहंग-ए-नज़्म - काव्य की भूमिका, जीवन का आरंभिक काल, हस्ती का सफ़र -अस्तित्व की यात्रा, जीवनकाल, रोज़-ए-हस्ती - जीवनकाल, शोर-ओ-ग़ुल - शोर शराबा, सांसारिक दुश्वारियां, आतिशपारे - अंगार के टुकड़े, विचारबिन्दु, तक़ाज़ा-ए-बहार - वसंत के प्राप्त अधिकार की मांग, ग़ुँचे लब सी लें - कलियाँ खिलें ना , अंजाम - परिणाम, मृत्यु, फ़सील-ए-जिस्म - शरीर की चारदीवारी )

- हर्ष

Wednesday, November 5, 2008

ज़रा एक नज़र इधर भी

कोई ब्लॉगर साथी इसका तर्जुमा हिन्दी में कर दे तो मेहरबानी होगी। इस प्रविष्टी का ब्लॉग जगत ही नहीं दूसरी जगहों में भी पढ़ा जाना नितांत आवश्यक है। ये शोभा डे द्बारा लिखित 'Bombay Times' में छपा लेख है जो मुझे ई-मेल के ज़रिये मिला। हालांकि लेखिका के कथा साहित्य से मैं प्रभावित नहीं हूँ, फिर भी इस लेख का मैं क़ायल हो गया। ग़ौर करें -

Me, Marathi
written by Shoba De

Correct me if I am wrong, Raj... but I consider myself an assal Marathi manoos। Born in Maharashtra to Maharashtrian parents etc. Proud to be Marathi (even though my language skills in my mother tongue are embarrassingly dodgy). I don't know how to make the perfect puran poli but I do love aamti.. This is clearly not enough anymore. Going by the checklist, I could be disqualified on several scores. I am married to a Bong, who has lived and worked in Mumbai for over 30 years (but alas, has not been appointed ambassador to the state of West Bengal yet!). He attends Durga Puja regularly and prefers maacher jhol to vangi bhaat. Fortunately, we don't have a daughter-in-law to name a college after, either in Kolkata or Mumbai.... And our children (like yours) did not attend Marathi-medium schools.. We employ people based on their competence, not caste or region. And I have never asked the vegetable vendor, breadwalla, taxi driver, dhobi, sweeper, elevator attendant, security guard, pizza delivery boy or any of the other people who make my life easier, which part of India they come from. This is Mumbai, meri jaan! Who cares where anyone comes from? Dhanda is all that matters.. Mumbai is India's most powerful magnet. Once you get here, you never leave. Don't believe me? Ask those innocent bhajjiwallas and doodhwallas who were beaten up and stoned by your men last week. Even with blood-soaked bandages around their heads, and broken hearts, they are staying put. As they should. Aaah, the natak of your dramatised 'arrest' was not lost on anybody. Had Rakhi Sawant's slapping stunt not grabbed those eyeballs on Valentine's Day, viewers would still be stuck with the image of a nattily dressed you (mmmm...loved the styling), clambering in and out of the police van. If Rakhi cleverly stage-managed the incident, what should one say about your brilliant coup? Overnight, Raj Thackeray was elevated from being the discarded Thackeray to a national figure. In one well-orchestrated move, you went from being a neglected nephew of an ageing tiger, to a sharp-clawed, teeth-baring cub with an independent act of his own. The circus acquired a brand new star attraction - you! It was never easy being a Thackeray. Ask Balasaheb. If he targeted south Indians in the '60s, you smartly headed north. Same agenda, diametrically different directions. By questioning the bona fides of those who have made Maharashtra their home, both of you tapped into the vulnerabilities of the average Marathi manoos. It is worth asking the very people whose interests you are protecting, whether they really want to do the dirty work currently being handled by the northies. Will the Marathi manoos agree to put in 18 hours a day plying taxis, selling veggies, washing clothes and so on? Who's stopping them from turning into vendors of milk, food grains, and other commodities? Perhaps, the Marathi manoos considers such occupations demeaning? The truth is, these jobs have always gone abegging, and there have been any number of hungry, unemployed people from other states ready and willing to grab them. Kick the 'outsiders' out at your own peril, and see what happens... Why do farmers commit suicide in such numbers only in Maharashtra ? The answer, dear Raj, may surprise you. In your defence, let me say you received the worst press - biased at best, and shrill to boot. Most of the semi-hysterical reporters from prestigious news channels were embarrassingly ill-informed as they blabbered incoherently each time a leaf moved outside the magistrate's court! Surely, you are not complaining? Everything seems to be going according to the master plan. You have 'made it' in one swift move. And women are finding you kinda cute in that sleeveless baby blue pullover. Great copy, great photo ops. What more does a neta want? To keep Mayawati and Lalu out of Maharashtra ? Now, that's a tall order!

End of the day, Be Indian!!! Don't follow blindly the 'divide and rule' policy of any selfish politician!!!


Tuesday, November 4, 2008

आएन्स्टाइन और मानवीय सौहार्द

अपने भावुकता के क्षणों में एक महान वैज्ञानिक के विचार आपके सम्मुख रखना चाहता हूँ। पेश है-

"Strange is our situation here on Earth. Each one of comes for a short visit, not knowing why, yet sometimes seeming to divine a purpose. From the standpoint of daily life, however, there is one thing we do know: that the man is here for the sake of other men - above all for those upon whose smiles and well-being our own happiness depends."

- Albert Einstein

धरती पर हमारी स्थिति बहुत निराली है. हम में से हर एक यहाँ अल्प-कालिक भ्रमण के लिए आता है, बिना जाने क्यों. फिर भी ना मालूम क्यों हमें किसी दिव्य ईश्वरीय प्रयोजन की प्रतीति होती है. पर अगर दैनिक जीवन के दृष्टिकोण से देखा जाए, तो एक बात तो निश्चित रूप से जान पड़ती है, वो ये कि आदमी एक दूसरे के लिए है. किसी और कारण से भी अधिक, हमारी अपनी ख़ुशी, दूसरे की मुस्कान और उसके कल्याण पर ही निर्भर है.

- एल्बर्ट आएन्स्टाइन

अनुवाद करने के उद्दंडता मैं करता रहता हूँ।

Monday, November 3, 2008

सपना और शुरुआत

स्व. वेणुगोपाल जी की ये पंक्तियाँ बहुत दिनों से दिमाग़ में गूँज रही थीं। सोचा आप सभी से बांटता चलूँ।

"न हो कुछ भी,
सिर्फ़ सपना हो,
तो भी हो सकती है शुरुआत।
और ये शुरुआत ही तो है,
कि वहाँ एक सपना है। "

Saturday, November 1, 2008

चल राज ठाकरे घर आपनो

एक ई-मेल आया, जिसे हू-ब-हू आपके सामने रख रहा हूँ। भेजने वाले की मंशा सामाजिक चेतना जागृत करने की है, पर मैं नहीं जानता कि बेहया मोटी खालों में ऐसी सूई चुभेगी या नहीँ। यद्यपि ये बातें गूढ़ नहीं हैं, फिर भी तार्किक और विचार्णीय हैं। मुलाहिज़ा हो -

This is a wonderful mail circulating in favour of RAJ Thackerey have a look We all should support Raj Thackeray and take his initiative ahead by doing more...

1. We should teach our kids that if he is second in class, don't study harder.. just beat up the student coming first and throw him out of the school.

2. Parliament should have only Delhiites as it is located in Delhi.

3. Prime-minister, president and all other leaders should only be from Delhi .

4. No Hindi movie should be made in Bombay. Only Marathi.

5. At every state border, buses, trains, flights should be stopped and staff changed to local men.

6. All Maharashtrians working abroad or in other states should be sent back as they are SNATCHING employment from Locals.

7. Lord Shiv, Ganesha and Parvati should not be worshiped in our state as they belong to north (Himalayas) and Ram who is from Ayodhya (UP).

8. Visits to Taj Mahal should be restricted to people from UP only.

9. Relief for farmers in Maharashtra should not come from centre because that is the money collected as Tax from whole of India, so why should it be given to someone in Maharashtra?

10. Let's support kashmiri Militants because they are right to killing and injuring innocent people for benifit of there state and community......

11. Let's throw all MNCs out of Maharashtra, why should they earn from us? We will open our own Maharashtra Microsoft, MH Pepsi and MH Marutis of the world .

12. Let's stop using cellphones, emails, TV, foreign Movies and dramas. James Bond should speak Marathi.

13. We should be ready to die hungry or buy food at 10 times higher price but should not accept imports from other states.

14. We should not allow any industry to be setup in Maharashtra because all machinery comes from outside.

15. We should STOP using local trains... Trains are not manufactured by Marathi manoos and Railway Minister is a Bihari.

16. Ensure that all our children are born, grow, live and die without ever stepping out of Maharashtra, then they will become true Marathi.

This mail should somehow reach Raj Thackrey so forward it to as many ppl as possible.This mail needs to be read by all Indians.So please help in this cause.Keep Forwarding.


अगर आप सहमत हों, तो इस मेल का प्रचार करें।

जिन्ना, राज ठाकरे, तोगड़िया, शाहबुद्दीन जैसे लोग और धार्मिक ग्रन्थ.

क्षमा, अहिंसा, आपसी सद्‍भाव वग़ैरा वग़ैरा मानवीय संवेदना से उपजे भाव हैं. इन्हे सीखने या समझने के लिए किसी क़ुर'आन, वेद, गीता या बाईबल की ज़रूरत नहीं है. इन ग्रंथों की सार्थकता तब रही होगी जब ये ४५०० साल से लेकर १५०० साल पहले तक लिखे गये थे, आज नहीं है. कोई बच्चा पैदा होते ही इन निरर्थक ग्रंथों को नहीं पढ़ने लगता है. उसमे ये बीज बोए जाते हैं और वो धर्म के आधार पर स्वयं को अन्य धर्म अनुयायी बच्चों से पृथक समझने लगता है. इन सभी भावों के पालन करने का संस्कार हमें अपनी बुनियादी और इब्तिदाई परवरिश में मिलता है. इन 'मदरसों' और 'सरस्वती शिशु मंदिरों' के बारे में तो मुझे ख़ास इल्म नहीं है, पर इतना ज़रूर जानता हूँ कि किसी भी अन्य स्कूल में ये भावनाएँ इन अविकसित ग्रंथों के ज़रिए नहीं सिखाई जातीं, ना ही कोई माता पिता ऐसे संस्कार देना चाहते हैं. राज ठाकरे, विनय कटियार, सैय्यद शाहबुद्दीन, प्रवीण तोगड़िया और बुख़ारी जैसे लोगों में यही तुख़्मी (बीज संबंधित) ख़राबी है. यहाँ जिन्ना का नाम नहीं लूँगा. इन जाहिलों और जिन्ना में ज़मीन आसमान का फ़र्क़ है.

Wednesday, October 29, 2008

कॉंग्रेस के राज्य में नेहरू का कबूतर

एक सफ़ेद कबूतर,
उसके दो पर,
एक इधर,
एक उधर।
दो व्यक्ति,
पहने हुए,
सफ़ेद धोती,
सफ़ेद कुर्ता,
सफ़ेद टोपी,
एक सफ़ेद कबूतर के इधर,
एक उधर,
नोचने को तैयार,
सफ़ेद कबूतर के पर।
अगली सुबह,
सफ़ेद कबूतर माँग रहा था प्राणों की भीख,
बेचारा चिल्लाय भी तो कैसे,
चिल्लाना शोभा नहीं देता उसे,
जो हो शांति का प्रतीक।


Tuesday, October 28, 2008

हम और हमारा 'बुर्क़ा'

हिन्दुस्तान के विभाजन के वक़्त हिंदू मुस्लिम के बीच भड़के दंगों में दस लाख लोग मारे गये और पंद्रह लाख लोग बेघर हुए। मारने वालों और मरने वालों का सिर्फ़ एक कारण था - 'धर्म'। उन्हे विभाजित करने वालों के सिरों पर सिर्फ़ एक 'लेबल' था - 'धर्म'। क्या हम वाक़ई विवेकी, बुद्धिसंगत, युक्तिमूलक हैं? या बुर्क़ा ( Burqa - the narrow window of 'Light') जैसी चीज़ पहन कर, ख़ुद को अन्धकार में रखना चाहते हैं?

Wednesday, October 8, 2008

धर्म और Emerson

दुनिया के मुख़्तलिफ़ (विभिन्न) चिंतकों की मज़हब के मुत'अल्लिक़ (सम्बंधित) जो राय रही है, उसका हिन्दी तर्जुमा (अनुवाद) पिछले चंद दिनों से आपकी ख़िदमत में पेश करता आ रहा हूँ। उसी सिलसिले को जारी रखते हुए फिर पेश है उन्नीसवीं शताब्दी के अमरीकी लेखक, चिन्तक और कवि Emerson का एक ख़ूबसूरत ख़याल -

"The religion of one age is the literary entertainment of the next."

- Ralph Waldo Emerson

"किसी एक युग का धर्म, उसके आगामी युग के लिए साहित्यिक मनोरंजन (या 'मनोरंजक साहित्य') है।"

Emerson के इस जुमले (वाक्य) से मुत्तफ़्फ़िक़ (सहमत) होते हुए ये कहना चाहता हूँ कि हमें फ़ख्र है कि हमने आगामी युग के मनोरंजन के लिए भरपूर सामान इकट्ठा कर रखा है। आने वाली पुश्तों की अदबी (साहित्यिक) तफ़रीह के इस इन्तज़ाम के लिए हमें उन सभी किताबों का शुक्रगुज़ार होना चाहिए जिनकी 'न कोई शुरूआत है न आख़िर' ('आदि न अंत') या वो जो नाज़िल (आकाश से प्रकट) हो गयी हैं (ना मालूम कैसे) या वो जो किसी को बेरहमी से लकड़ी पर ठोंक देने के बाद उसके ज़िंदा हो जाने का मज़ाक़िया क़िस्सा बयाँ करती हो। इन किताबों के आगे बेचारे देवकी नंदन खत्री की 'भूतनाथ' भी पनाह मांगेगी। इन किताबों ने आज जो भी क़हर ढा रक्खा हो, हमें ख़ुश होना चाहिए कि कम से कम आगामी पुश्तों के लिए हम उनके हंसने का सामान तो सौंप रहे हैं।

Tuesday, October 7, 2008

धर्म और Shaw

कल मैनें १९५० के नोबेल पुरस्कार प्राप्त साहित्यकार और महान चिंतक बर्ट्रंन्ड रस्सेल के विचार अनूदित कर के आपके सामने रखे थे, आज १९२५ में साहित्य के लिए नोबेल पुरस्कार से सम्मानित जॉर्ज बर्नार्ड शॉ के शब्द आपके सामने रख रहा हूँ।

"The fact that a believer is happier than a skeptic is no more to the point than the fact that a drunken man is happier than a sober one."

-George Bernard Shaw

"ये कहना कि धर्म में आस्था और विश्वास रखे वाला किसी संदेही (अविश्वासी या संशयी) से ज़्यादा ख़ुश है, ये कहना होगा जैसे कोई मद्यप (शराबी) किसी संयमी परहेज़गार से ज़्यादा ख़ुश है।"

Monday, October 6, 2008


कल एक ब्लॉग ( से तआ'रुफ़ाना सामना हुआ और लखनऊ की नामालूम कितनी पुरानी यादें ताज़ा हो गयीं। बेसाख़्ता कुछ कह डाला। हालाँकि ये Comment उनके ब्लॉग पर भी है, फिर भी आपसे बांटने का मोह रोक नहीं पा रहा हूँ। ज़रा रिक्शे वाले से हुई गुफ्तगू पर भी ग़ौर कीजियेगा। मुलाहिज़ा हो -

I have lot to say about my old good home Lucknow, one of the two cities where I spent my formative years. After 31 years, Colvin, Ganj, girls of IT College and Loretto (some of them are still good friends and one of them has even become a 'nani'), Restaurants like Simsons, Ranjana's, 'kulfi-faalooda' and 'chaat' joints of Aminabad continue to haunt me even now. Akhilesh Das, my class fellow in Colvin (now an MP), was a scoundrel even then, remains a scoundrel and will remain a scoundrel till his grave,which unfortunately in the current political scenario is not going to be very near in future, despite all our wishfull thinking. I miss Gomti,I miss Vintage Car rallies, I miss Sunday morning shows in Mayfair, I miss the conversation I used to have with 'rickshawalas' which went something like this -

"रिक्शे आले ('aale' not 'waale') , हज़रतगंज जाओगे?"...
"हाँ जाएँगे"..
"कितने पैसे लोगे?"...
"जो मुनासिब हो दे दीजिएगा"...
"तुम बताओ के कितने मुनासिब होते हैं"...
"वैसे तो पचहत्तर पैसे होते हैं!"...
"अमाँ छोड़ो, पचास में तो कल गये थे"...
"हनुमान सेतु पर चढ़ाई कितनी है"..
"छोड़ो, हम तांगा ले लेंगे"
" चलिए सत्तर दे दीजिएगा"...

इस पाँच पैसे कम करवाने की क़वायद के क्या कहने।

I miss everything.

बैठे बैठे बस कुछ यूँ ही - धर्म, बुद्धिजीवी और कमाई

"अधिकाँश प्रतिष्ठित (इसाई) बुद्धिजीवी इसाईयत को नहीं मानते हैं, पर इस तथ्य को सार्वजनिक रूप से उजागर नहीं होने देते, क्योंकि उन्हें डर है कि उनकी आमदनी (कमाई) बंद हो जायेगी ।"

- बर्ट्रँड रस्सेल

"The immense majority of intellectually eminent men disbelieve in Christian religion, but they conceal the fact in public, because they are afraid of losing their incomes."

Bertrand Russell

क्या ये तथ्य मुस्लिम, हिंदू या किसी और धार्मिक बुद्धिजीवी पर सटीक नहीं बैठता?

Saturday, October 4, 2008

बद्तमीज़ी की इन्तिहा या ओहदे का गुमाँ

एक ब्लॉग 'क़ुन' के आख्रीरी पोस्ट पर आप सबका तवज्जो चाहूंगा। उन्वान है 'ये तो बद्तमीज़ी की इन्तिहा है' मज़मून कुछ यों है-

"मध्य प्रदेश के सम्माननीय सांसद को रेलवे पुलिस के जवानों ने लहू लुहान कर दिया ! यह देख /सुन कर बहुत दुःख हुआ ! सांसद किसी भी दल के सदस्य हों उनका सम्मान जनता के प्रतिनिधि का सम्मान और उनकी बेइज्जती जनता की बेइज्जती है !
पुलिस कर्मी जनप्रतिनिधियों के साथ इस तरह का सलूक करते हैं तो साधारण जनता के प्रति उनके रवैये को बखूबी समझा जा सकता है !
लोकतान्त्रिक देश के नागरिक ( अदना ही सही ) की हैसियत से हमारा मानना है कि
ये तो बद्तमीजी की इन्तहा है !"

मेरी प्रतिक्रया -

"सांसद हों या आम जनता, किसी के साथ की गयी बदतमीज़ी मंज़ूर नहीं होनी चाहिए. लेकिन किसी भी सांसद का पुलिस से पिट जाना इसलिए बदतमीज़ी है क्योंकि वो सांसद है या जनता का नुमाइंदा है, किसी भी दलील से खरा नहीं उतरता. मेरा ख़्याल है कि अगर जनता भी कोई तहज़ीब का दायरा तोड़े तो उसके नुमाइंदे को ही ज़िम्मेदार ठहराना चाहिए. ऐसी बहुत सी मिसालें हमारे पास हैं और हम आए दिन देखते जा रहे हैं जहाँ ये नुमाइंदे आवाम को भड़का कर हमारा जीना हराम कर रहे हैं, और अपने सांसद या उसी जनता के बदौलत नेता होने का नाजायज़ फ़ायदा उठा रहे हैं. आपके चहेते सांसद क्यों पिट गये इससे मेरा कोई सरोकार नहीं, लेकिन उनके ओहदे की दुहाई न दें और अगर वो आम जनता की नुमाइंदगी कर रहे हैं, तो उन्हे ही पीटना जायज़ होगा."

Wednesday, October 1, 2008

अंधी आँखन सूझै नाहीं

एक रोज़ कुछ पढ़ते - पढ़ते सोचने लग गया। आप सभी से बाँटना चाहता हूँ।

मोको कहाँ ढूंढें रे बन्दे, मैं तो तेरे पास में।
न मैं देवल न मैं मस्जिद न काबे कैलास में।
न तो कौन क्रिया कर्म में, नहीं योग बैराग में।
खोजी होए तो तुरते मिलिहौं, पल भर की तालास में।

'ऐ बन्दे, तू मुझे कहाँ ढूंढता फिर रहा है, मैं तो तेरे पास ही हूँ। न मैं मन्दिर में मिलूंगा न मस्जिद में, न काबे न कैलाश में, न पूजा पाठ में न योग बैराग में। खोजने वाला हो तो मैं तो पल भर की तलाश में मिल जाऊंगा।'

- कबीर

तसव्वुफ़ की परम्परा में और उर्दू और फ़ारसी शायरी में इस ख़याल की मिसालें देखें :

ऐ तमाशागाहे-आलम रूए-तुस्त,
तू कुजा बहरे तमाशा मी रवी।

'सारी दुनिया तेरे चेहरे का तमाशा देखती है। तू ख़ुद कहाँ तमाशा देखने जा रहा है?'

तू कार-ए-ज़मीं रा निको साख़्ती,
कि बा-आस्मां नीज़

'क्या तूने ज़मीं का काम संवार लिया है जो आस्मां की तरफ़ उड़ान भर रहा है?'

- सादी

सादी तेरहवीं सदी के फ़ारसी के वो सूफ़ी शायर हैं जिनके एक बंद का अंग्रेजी तर्जुमा New York में UN बिल्डिंग के Hall Of Nations में दाख़िल होते वक़्त आपको दरवाज़े पर लिखा दिखाई देगा। मुलाहिज़ा हो :

Human beings are members of a whole,
In creation of one essence and soul.

If one member is afflicted with pain,
Other members uneasy will remain.

If you have no sympathy for human pain,
The name of human you cannot retain.

इसी बंद का तर्जुमा University of Minnesota के Dr. Iraj Bashiri कुछ यूँ करते हैं -

Of One Essence is the Human Race,
Thusly has Creation put the Base.

One Limb impacted is sufficient,
For all Others to feel the Mace.

The Unconcern'd with Others' plight,
Are but Brutes with Human Face.

हाफ़िज़ कहते हैं -

बाज़ मी गोयमो अज़ गुफ्तए-ख़ुद दिलशादम,
बन्दःए इश्क़-ओ-अज़ हर दो जहाँ आज़ादम ।

'मैं ये बात फिर दोहरा रहा हूँ और इस बात से खुश हूँ की मैं इश्क़ का गुलाम हूँ और दोनों जहाँ की पाबंदियों से आज़ाद हूँ’।'

अब ज़रा 'बेदिल' को सुनिए -

तु ज़े ग़ुँचा कम न दामीदई,
दर-ए-दिलकुशा ब-चमन दारा।

'तू तो ख़ुद एक खिलता हुआ फूल है। दिल के दरवाज़े को खोल कर अपने बाग़ में दाख़िल हो।'

अपने एक शेर की जुर्रत कर रहा हूँ। मुलाहिज़ा हो-

क्यों बाद-ए-बहारी का तुझे इंतज़ार हो,
ऐ ग़ुँचा दहन तुम तो सरापा बहार हो।

'खिलने के लिए तुझे वसंत समीर की प्रतीक्षा क्यों है कली, तुम तो सिर से पाँव तक स्वयं वसंत की प्रतिमूर्ती हो।'

Friday, September 26, 2008

राजनैतिक बातें कैसे की जाएँ- पाठ १

धड़ल्ले से बिना सन्दर्भ के बातें कीजिये -

जैसे इन्होने सुझाया है ( -

( सभी प्रश्नों का संकलन सम्प्रति - )

स्वयं का आंकलन कीजिये -
(आंकलन विधि मेरे व्यग्तिगत अनुभवों पर आधारित है )

अगर आप इनमें से धड़ल्ले से बोल सकते हैं -

५ मुद्दों तक - तो आप हैं मुहल्ले के नेता
५ से ८ - पार्टी टिकट के संभावित उम्मीदवार
८ से १२ - राष्ट्रीय नेता की छवि के हक़दार
१२ से १७ - प्रधान मंत्री से लेकर किसी TV channel के प्रवचनकर्ता बनने योग्य।

(अगर इनसे भी अधिक ऐसे ही मुद्दों पर आप धड़ल्ले से बोल सकते हैं तो आपको ये पाठ सीखने की आवश्यकता नहीं है, आप नरेंद्र मोदी, प्रवीण तोगड़िया, विनय कटियार, सय्यद शाहबुद्दीन या बुख्रारी से संपर्क करें )

( बिना सन्दर्भ के कही गयी ये निम्नलिखित बातें ऊटपटांग लगेंगी, तो क्या हुआ, नेता बनना है कि नहीं ? )


क्या आप धर्मनिरपेक्ष हैं ? जरा फ़िर सोचिये और स्वयं के लिये इन प्रश्नों के उत्तर खोजिये.....

१. विश्व में लगभग ५२ मुस्लिम देश हैं, एक मुस्लिम देश का नाम बताईये जो हज के लिये "सब्सिडी" देता हो ?

२. एक मुस्लिम देश बताईये जहाँ हिन्दुओं के लिये विशेष कानून हैं, जैसे कि भारत में मुसलमानों के लिये हैं ?

३. किसी एक देश का नाम बताईये, जहाँ ८५% बहुसंख्यकों को "याचना" करनी पडती है, १५% अल्पसंख्यकों को संतुष्ट करने के लिये ?

४. एक मुस्लिम देश का नाम बताईये, जहाँ का राष्ट्रपति या प्रधानमन्त्री गैर-मुस्लिम हो ?

५. किसी "मुल्ला" या "मौलवी" का नाम बताईये, जिसने आतंकवादियों के खिलाफ़ फ़तवा जारी किया हो ?

६. महाराष्ट्र, बिहार, केरल जैसे हिन्दू बहुल राज्यों में मुस्लिम मुख्यमन्त्री हो चुके हैं, क्या आप कल्पना कर सकते हैं कि मुस्लिम बहुल राज्य "कश्मीर" में कोई हिन्दू मुख्यमन्त्री हो सकता है ?

७. १९४७ में आजादी के दौरान पाकिस्तान में हिन्दू जनसंख्या 24% थी, अब वह घटकर 1% रह गई है, उसी समय तत्कालीन पूर्वी पाकिस्तान (अब आज का अहसानफ़रामोश बांग्लादेश) में हिन्दू जनसंख्या 30% थी जो अब 7% से भी कम हो गई है । क्या हुआ गुमशुदा हिन्दुओं का ? क्या वहाँ (और यहाँ भी) हिन्दुओं के कोई मानवाधिकार हैं ?

८. जबकि इस दौरान भारत में मुस्लिम जनसंख्या 10.4% से बढकर 14.2% हो गई है, क्या वाकई हिन्दू कट्टरवादी हैं ?

९. यदि हिन्दू असहिष्णु हैं तो कैसे हमारे यहाँ मुस्लिम सडकों पर नमाज पढते रहते हैं, लाऊडस्पीकर पर दिन भर चिल्लाते रहते हैं कि "अल्लाह के सिवाय और कोई शक्ति नहीं है" ?

१०. सोमनाथ मन्दिर के जीर्णोद्धार के लिये देश के पैसे का दुरुपयोग नहीं होना चाहिये ऐसा गाँधीजी ने कहा था, लेकिन 1948 में ही दिल्ली की मस्जिदों को सरकारी मदद से बनवाने के लिये उन्होंने नेहरू और पटेल पर दबाव बनाया, क्यों ?

११. कश्मीर, नागालैण्ड, अरुणाचल प्रदेश, मेघालय आदि में हिन्दू अल्पसंख्यक हैं, क्या उन्हें कोई विशेष सुविधा मिलती है ?

१२. हज करने के लिये सबसिडी मिलती है, जबकि मानसरोवर और अमरनाथ जाने पर टैक्स देना पड़ता है, क्यों ?

१३. मदरसे और क्रिश्चियन स्कूल अपने-अपने स्कूलों में बाईबल और कुरान पढा सकते हैं, तो फ़िर सरस्वती शिशु मन्दिरों में और बाकी स्कूलों में गीता और रामायण क्यों नहीं पढाई जा सकती ?

१४. गोधरा के बाद मीडिया में जो हंगामा बरपा, वैसा हंगामा कश्मीर के चार लाख हिन्दुओं की मौत और पलायन पर क्यों नहीं होता ?

१५. क्या आप मानते हैं - संस्कृत सांप्रदायिक और उर्दू धर्मनिरपेक्ष, मन्दिर साम्प्रदायिक और मस्जिद धर्मनिरपेक्ष, तोगडिया राष्ट्रविरोधी और ईमाम देशभक्त, भाजपा सांप्रदायिक और मुस्लिम लीग धर्मनिरपेक्ष, हिन्दुस्तान कहना सांप्रदायिकता और इटली कहना धर्मनिरपेक्ष ?

१६. अब्दुल रहमान अन्तुले को सिद्धिविनायक मन्दिर का ट्रस्टी बनाया गया था, क्या मुलायम सिंह को हजरत बल दरगाह का ट्रस्टी बनाया जा सकता है ?

१७. एक मुस्लिम राष्ट्रपति, एक सिख प्रधानमन्त्री और एक ईसाई रक्षामन्त्री, क्या किसी और देश में यह सम्भव है ?

- unquote"

इस पाठ को याद करके कल आइयेगा। ये 'Objective Type' सवालात नहीं हैं, जो IAS जैसे अफ़सरान को चुनने के लिए ऊल-जलूल इम्तहान में पूछे जाते हैं।

Thursday, September 25, 2008

ब्लॉगर सम्प्रदाय, मुझे सहयोग चाहिए

ब्लॉग की दुनियाँ में घूमते घूमते एकाएक ऐसे ब्लॉग में दाख़िल हो गया जिसने मेरी आंखें खोल के रख दीं। ब्लॉग के शौक़ीन, हर उस सोचने वाले से प्रार्थना है कि उस ब्लॉग पर ज़रूर जाये और मानवता के भले के लिए उन हज़रत के मार्गदर्शन से लाभ उठाये। भारत में समाज सेवा की ओर उठा ये मेरा पहला क़दम है कृपया सहयोग दें। इन हज़रत के कई ब्लॉग हैं जिनमें से कुछ का URL है - और । ये सज्जन बिहार के रहने वाले हैं और आधुनिक भारतीयता इनमें कूट कूट कर भरी हुयी है, जो अनुकर्णीय है। अगर हम और आप इनके साथ न हुए तो और कौन होगा ? बिहार प्रांत के डॉ राजेन्द्र प्रसाद, जय प्रकाश नारायण जैसे विचारकों के उत्तराधिकारी अब हम हिन्दुस्तानियों को मिल गए हैं। हमें ख़ुश होना चाहिए। उनके एक पोस्ट का परिचय दूँ , शीर्षक है " गोधरा का सच सामने आया" -

"२५ सितम्बर को नानावटी कमीसन की रिपोर्ट आने के बाद यह तय हो गया की गोधरा मे साबरमती एक्सप्रेस मे रामसेवक जलाये गए थे । पहले के कार्यक्रम के अनुसार मुस्लिमो ने रामसेवक को जला कर मार डाला । लेकिन जब इस पर राजनीती सुरु हुए तो कहा गया की आग अन्दर से लगाई गई थी । मुस्लिम वोट के भूखे लालू यादव ने रेलवे के माध्यम से एक आयोग बनाया जिसने बहुत कम समय मे चमचे की तरह ऐसे रिपोर्ट पेश की जिसकी बाते किसी के गले नही उतरी । उसने कहा की आग अन्दर से लगाई गई थी । नानावटी आयोग की रिपोर्ट के बाद देश को यह जान लेना चाहिये की वोट के लिए हिदू समुदाय के ही नेता इसे बेचने मे कोई कसर नही छोड़ते है । मामले मे नरेन्द्र मोदी फिर विजई बन कर सामने आए है ।"

इस पोस्ट पर इस ग़रीब ने एक टिप्पणी डाली -

तनिक 'हिंदू' शब्द, जिसकी महिमा का आप इतना गुणगान अपने ब्लॉग और नरेंद्र मोदी के माध्यम से कर रहे हैं, उसके अर्थ और इतिहास से मुझे अवगत करा दें, कृपा होगी। अगर नरेंद्र मोदी भी इस पर कुछ प्रकाश डाल सकें (जिसमें मुझे संदेह है) तो और भी कृपा होगी.
इस दीन याचक का नाम हर्ष है।"

उनके जवाब का इंतज़ार है। तब तक आप मुझे भारत की समृद्धि के लिए अपना सहयोग दें, उनके ब्लॉग पर ज़रूर जायें।

Wednesday, September 24, 2008

शैख़-ओ-पंडित ने भी क्या अहमक़ बनाया है हमें

'जोश' की क़लम से -


ये मुसलमाँ है, वो हिन्दू, ये मसीही, वो यहूद
इस पे ये पाबन्दियाँ हैं, और उस पर ये क़यूद
( पाबन्दियाँ, क़यूद - बंधन)

शैख़-ओ-पंडित ने भी क्या अहमक़ बनाया है हमें
छोटे छोटे तंग ख्नानों में बिठाया है हमें

क़स्र-ए-इन्सानी पे ज़ुल्म-ओ-जहल बरसाती हुई
झंडियाँ कितनी नज़र आती हैं लहराती हुई
(क़स्र-ए-इन्सानी - मानवता के महलों पर , ज़ुल्म-ओ-जहल - अत्याचार और मूढ़ता )

कोई इस ज़ुल्मत में सूरत ही नहीं है नूर की
मुहर हर दिल पे लगी है इक-न-इक दस्तूर की
(ज़ुल्मत - अँधेरा , नूर -प्रकाश, दस्तूर - जातीय या धर्म संबन्धी रिवाज)

घटते-घटते मेह्रे-आलमताब से तारा हुआ
आदमी है मज़हब-ओ-तहज़ीब का मारा हुआ
(मेह्रे-आलमताब - दुनियाँ को प्रकाशमान करने वाला , मज़हब-ओ-तहज़ीब - धार्मिक रीति रिवाजों )

कुछ तमद्दुन के ख़लफ़, कुछ दीन के फ़र्ज़न्द हैं
कुलज़मों के रहने वाले, बुलबुलों में बंद हैं
(तमद्दुन - संस्कृति। ख़लफ़ - संतान, औलाद। दीन - धर्म। फ़र्ज़न्द - पुत्र, बेटे। कुलज़मों - समुद्रों)

क़ाबिल-ए-इबरत है ये महदूदियत इंसान की
चिट्ठियाँ चिपकी हुई हैं मुख़्तलिफ़ अदयान की
(क़ाबिल-ए-इबरत - सीखने योग्य, महदूदियत - संकीर्णता, मुख़्तलिफ़ - भिन्न भिन्न, अदयान - मज़हबों की )

फिर रहा है आदमी भूला हुआ भटका हुआ
इक-न-इक लेबिल हर इक के माथे पे है लटका हुआ

आख़िर इन्साँ तंग साँचों में ढला जाता है क्यों
आदमी कहते हुए अपने को शर्माता है क्यों

क्या करे हिन्दोस्ताँ, अल्लाह की है ये भी देन
चाय हिंदू, दूध मुस्लिम, नारियल सिख, बेर जैन

अपने हमजिन्सों के कीने से भला क्या फ़ायदा
टुकड़े-टुकड़े हो के जीने से भला क्या फ़ायदा
(हमजिन्सों - साथी मनुष्यों, कीने - द्वेष )

- शबीर हसन खां 'जोश मलीहाबादी'

Tuesday, September 23, 2008


अपने दो अशआर की ज़हमत दे रहा हूँ, मुलाहिज़ा हो -

वसी-उल-क़ल्ब ही जाने है क्या राज़े-निहां इसका,

हरम में कौन बसता है ठिकाना दैर है किसका।

ज़रा ये फ़र्क़ देखो अहल-ए-ज़ाहिर और बातिन में,

सज़ा-ए-मौत जो उसकी, उरूसी जश्न है इसका ।

- हर्ष

Sunday, September 14, 2008

ये बता कि कारवाँ क्यूं लुटा

गोधरा से दिल्ली तक

अपने दर्द का कुछ हिस्सा आपकी खिदमत में पेश है -

आसें टूटतीं अपनी, न जलता आशियाँ अपना,

न होता सैद-अफ़्गन गर ये ज़ालिम बाग़बां अपना।

न जाने कुफ्र-ओ-ईमां की कहाँ जाकर हदें छूटें,

चलो ढूँढें नया कोई अमीर-ए-कारवाँ अपना।

मज़ाक़-ए-काफिरी है अब, शगुफ्ता ज़िंदगी है अब,

कहाँ लाया है दानिस्ता, हमें दर्द-ए-निहां अपना।

मोअज़्ज़िन इक अज़ां पे खींच लाया भीड़ लोगों की,

यहाँ हम ढूंढते फिरते रहे इक हमज़बाँ अपना।

चमन में रंग-ओ-बू-ए-गुल ये क्या इतराते फिरते हैं,

चले आओ ज़रा लेकर जमाल-ए-बेकराँ अपना।

(सैद-अफ़्गन - शिकारी। बाग़बां - बाग़ का रखवाला, माली। कुफ्र-ओ-इमाँ - आस्तिकता और नास्तिकता , हदें छूटें - सीमाओं से बाहर आयें. अमीर-ए-कारवाँ - नेतृत्व करने वाला, कारवाँ की अगुवाई करने वाला। मज़ाक़-ए-काफिरी - नास्तिकता की ओर रुझान । शगुफ्ता - प्रफुल्लित। दानिस्ता - समझ बूझ कर । दर्द-ए-निहां - आन्तरिक पीड़ा। मोअज़्ज़िन - मस्जिद में अजां देने वाला जिसे सुन कर लोग नमाज़ पढ़ने आते हैं। हमज़बाँ - अपनी भाषा समझने वाला। रंग-ओ-बू-ए-गुल - फूलों के अलग अलग रंग और खु़शबू। जमाल-ए-बेकराँ - निस्सीम सौंदर्य )

इस ग़ज़ल का पहला शेर गोधरा काण्ड के वक़्त जनाब नरेन्द्र मोदी की नज़र था जो उस सन्दर्भ में समझा जा सकता है। अपने अन्तिम शेर की प्रेरणा मुझे डॉ राधाकृष्णन के एक लेख से मिली थी, लेकिन वो फिर कभी....

- हर्ष

Friday, September 12, 2008

जिन्हें नाज़ है हिंद पर वो कहाँ हैं?

आज के 'Mumbai Mirror' की ज़रा इस ख़बर पर ग़ौर फरमाएं
(धन्य हैं ऐसे माता-पिता)

"An eight-year-old's diksha, which basically means renunciation and is an age-old practice followed by the Jain community, has pitted tradition against modern laws. Observing that the practice of minors being initiated into diksha is "as bad as the tradition Sati", the Bombay High Court on Thursday said there is an urgent need to frame guidelines on the issue।The HC made this observation while hearing an appeal filed by the child's parents who had challenged the contention of the Child Welfare Committee (CWC) that the girl, now 12, "is in need of care and protection". The division bench of justice P B Majmudar and justice Amjad Sayed observed, "No religion can allow a minor to become a sadhu. It's as bad as Sati and there should be some law to prevent minors from taking diksha. Under the provisions of law, the court is the ultimate guardian of every minor and if we do not protect the rights of this minor child, we will fail in our duty." The court appointed a four-member committee to interview the 'sadhvi'। The committee comprises prothonotry (administrative in-charge of HC) A Rodrigues, senior counsel Rajani Iyer, CWC chairperson Dr Shaila Mhatre and advocate Ravindra Parekh who will "interview the sadhviji about her decision to seek diksha"। The committee meet the "sadhviji" who is presently at a derasar (a Jain temple) in Juhu on September 1.

अब ज़रा माता-पिता की अपने वकील के ज़रिये दी गयी दलील पर भी ग़ौर करें -

Appearing on behalf of the parents, advocate Milind Sathe said, "The ritual is more than hundreds of years old. It is about sentiments and religion, and the decision to take diksha was independently taken by the child. The parents never forced her. A person who takes diksha is not allowed to come back to society. In our view, she does not need care and protection."

वकील साहब ने बच्ची से बात करने के इजलास के मशविरे को ये कह कर नामंजूर करना चाहा -

“They (साध्वी) are not allowed to interact in public "

हालांकि उन्होंने ये भी माना -

"The court may appoint a committee to interview her,” He conceded that there is a need for a law on the issue, but it cannot be decided by the legislature alone.

ये इजलास न होती तो क्या होता -

“Even the shankaracharya was a common citizen before he renounced the world। He too had to come to court,” the judges said referring to the head of the Kanchi Mutt in Tamil Nadu who is named in a murder case. “We understand the sentiments of religion, but it is important to protect her interests also। After 20 years, she must not repent her decision. The court cannot be a silent spectator to such an issue ignoring the fact that the girl child is allowed to renounce the world at a tender age. We feel an eight-year-old is not able to take such a big decision.” The judges said once the committee submits its report, they may call the “sadhvi” for an in-chamber interview “if the report does not satisfy them”.

अब ज़रा इस क़िस्से की पृष्ठभूमि (background) पर ग़ौर करें -

In March 2004, the diksha ceremony in which the eight-year-old renounced the material world had ruffled child rights activists। The matter was brought to the attention of CWC by Childline, an NGO. In July 2006, the HC had directed CWC to find whether she had taken diksha voluntarily or was forced to do so. The CWC said in a report that the young girl needed care.

इसके बाद बच्ची के वालिदैन (माता-पिता) CWC के नज़रिए से मुतफ़्फ़िक़ (सहमत) न हुए। लिहाज़ा उन्होंने बच्ची को साध्वी बनाने की जद्द-ओ-जहद (अथक परिश्रम) के ज़ेर-ऐ-असर (फलस्वरूप) इजलास का दरवाज़ा दोबारा खटखटाया -

Later, the girl's parents challenged the CWC's order in the HC, which granted a stay on the CWC order. Thursday's hearing was in connection with the parents' challenge to the CWC's finding.

आठ बरस की बच्ची, जिसे शायद कोई भी चहचहाता हुआ देखना चाहेगा उसका हिन्दोस्तान जैसे मुल्क में ये हश्र है। इस ख़बर के मुत्तालिक़ अपने एक शेर की ज़हमत देना चाहूंगा। मुलाहिज़ा हो-

न जाने कुफ्र-ओ-इमाँ की कहाँ जाकर हदें छूटें,
चलो ढूँढें नया कोई अमीर-ए-कारवाँ अपना।

(कुफ्र-ओ-इमाँ - आस्तिकता और नास्तिकता , हदें छूटें - सीमाओं से बाहर आयें , अमीर-ऐ-कारवाँ - जुलूस का मुखिया )